Advertisements

अभय चौटाला दसवीं पास वो भी नकल से कोई चपड़ासी के पद पर भी नहीं रखेगा, 23 सितंबर को आउंगा सिरसा-करण दलाल





Palwal, 17 sep, 2018 NewsRoots18
हरियाणा विधानसभा में तकरार से शुरु हुई कहानी जुतम पैजार से होते हुए मर्यादाओं को गोली मार कर राजनीतिक चुनौती तक आ पंहुची है। यह कहना मुश्किल है कि कहां तक पंहुचेगी। हां यह जरुर साफ हो गया है कि 23 सितंबर को सिरसा में पंहुच रही है।

इनेलो नेता अभय चौटाला और कांग्रेस विधायक करण दलाल दोनों के बीच सदन में हुई खींचतान और जुतम पैजार के बाद अभय चौटाला ने दलाल के सीर में गोली मारने की बात कही थी। इस पर पलटवार करते हुए दलाल ने भी चौटाला को बताकर सिरसा आने का ऐलान किया था।

पलवल की पंजाबी धर्मशाला में करण दलाल ने कार्यकरताओं से बातचीत करने के बाद 23 सितंबर को सिरसा जाने का ऐलान किया है।

दलाल ने कहा कि पलवल की जनता सुलझी हुई है। किसी से गाली गलौच और लड़ाई की भाषा में बात नहीं करती है। लेकिन अगर कोई हमारे मान सम्मान को ठेस पंहुचाए तो वो इसका डटकर मुकाबला करती है।

दलाल ने कहा कि अगर कोई हमारी तरफ आंख उठाने की जूर्रत भी करेगा तो हम उनको बता देना चाहते है कि यह भूमि दादा कान्हा और राजा नाहर सिंह जैसे वीरों  की है। जो गुंडे, बेईमान और अपराधी किस्म के लोगों को सबक सिखाना जानती  है।





करण दलाल ने कहा कि अभय चौटाला ने जो मुझे पिछले दिनों गोली मारने  की बात कही है, मैं उल चुनौती को स्वीकार कर 23 सितम्बर को सिरसा जाउंगा। इतना ही नहीं दलाल ने अभय चौटाला को चैलेंज करते हुए कहा कि वह मुझको गोली मार कर दिखाए। उन्होंने कहा कि मैने चौ. देवीलाल के बारे मैं अपशब्द कहना तो दूर उनका नाम तक नहीं लिया क्योंकि हमारे क्षेत्र के बुजूर्गों ने हमें सदा बुजूर्गों का सम्मान करना ही सिखाया है।

दलाल ने चौटाला पर निशाना साधते हुए कहा कि जो छोटी हरकतें अभय चौटाला ने की है वह सिर्फ अनपढ़ और अपराधिक मानिसकाता वाला व्यक्ति ही करता है। दलाल ने कहा कि चौटाला की डिग्रीयां नकली है। वह दसवीं पास है वो भी नकल करके पास की है। अगर अभय चौटाला अपनी पढाई के दम पर नौकरी मांगने जाता है तो कोई चपड़ासी के पद पर भी नहीं रखेगा।


करण दलाल ने कहा कि अभय चौटाला ने एक बार फिर पलवल  क्षेत्र के मान-सम्मान को ललकारा है। इससे पहले भी ओम प्रकाश चौटाला ने 1999 के चुनाव के दौरान एक जनसभा में पर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी की मौजूदगी में लोगों से कहा था कि  करण दलाल को धूल चला दो, लेकिन  उस सभा में उसी की पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विद्रोह कर दिया था और उठकर चले गए थे। तब मजबूर होकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी को कहना पड़ा था कि आप जिसको वोट देना चाहते है उसकी को दें।



Post a Comment

0 Comments