Advertisements

कूड़ेदान में डालने लायक है सुप्रीम कोर्ट का फैसला : जयहिंद







Rohtak, 27 Sep, 2018 NewsRoots18
माननीय सुप्रीम कोर्ट के सेक्शन 497 IPC पर आये फैसले का आम आदमी पार्टी प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने विरोध करते हुए कहा कि समाज सर्वोपरी है न कि कोर्ट । मैं माननीय सुप्रीम कोर्ट की इज्जत करता हूँ लेकिन ऐसा फैसला जो भारतीय संस्कृति के खिलाफ हो, मैं विरोध करता हूँ।  मैं समाज  में गंद फ़ैलाने की छूट के आज के फैसले के बिलकुल खिलाफ हूँ, समाज को स्वच्छ और पवित्र बनाने के लिए लोग अपनी जान तक कुर्बान कर देते हैं। इस कानूनी छूट के बाद चरित्रहीन लोगों को खुली छूट मिल गयी ।ऐसे तो देश में ना कानून बचेगा और ना समाज।

जयहिंद ने कहा कि मैं सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से पूर्णत असहमत हूँ, हमारे समाज में बहुत सारी ऐसी चीज़े हैं जो हमारी संस्कृति को महान बनाये हुए हैं| सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला भारत की हजारो साल पुरानी सभ्यता पर दाग है । सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद शादी जैसे पवित्र बंधन का कोई औचित्य ही नहीं बचेगा| अगर सुप्रीम कोर्ट को कुछ करना था तो शादी के उपरांत पुरुष और स्त्री दोनों के नाजायज संबंधो को गैरकानूनी घोषित करना था | केंद्र सरकार इस फैसले के विरुद्ध अध्यादेश लेकर आये ।


जयहिंद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का पूर्ण रूप से अवैध ,अनैतिक फैसला है। हमारे समाज में बहुत सारी ऐसी रिवाज हैं जो हमारी संस्कृति को देश को महान बनाये हुए है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले  के बाद शादी जैसे पवित्र बंधन का कोई औचित्य ही नहीं बचेगा। ये अमेरिकन सोच के फैसले कोई स्वीकार नही करता । ये फैसला कूड़ेदान में डालने लायक है । जयहिंद ने कहा कि आज फैसला देने वाले न्यायधीश को भारत की सभ्यता को समझने की जरूरत है  व इस फैसले पर सुप्रीम कोर्ट पुनर्विचार करें।

Post a Comment

0 Comments