Advertisements

विमान में बैठे यात्रियों के नाक-कान से अचानक गिरने लगा खून






Mumbai, 20 sep, NewsRoots18
हजारों फीट की ऊंचाई पर प्लेन और ऑक्सीजन की सप्लाई ब्रेक से यात्रियों में मचा हड़कंप। जेट एयरवेज की एक फ्लाइट में ऐसा ही हुआ जेट एयरवेज की फ्लाइट वीरवार को  मुंबई से जयपुर जा रही थी। फ्लाइट में कई यात्रियों के नाक और कान से खून निकलने लगा। कुछ यात्रियों को सिर में तेज दर्द होने लगा। विमान जब बीच हवा में पहुंचा, तो 30 यात्रियों के  नाक और कान से खून निकलने लगा। ऐसे में विमान में हड़कंप मच गया। यात्रियों को होने वाली परेशानी को देखते हुए विमान को मुंबई एयरपोर्ट पर वापस बुला लिया गया।

मिली जानकारी के अनुसार जेट एयरवेज के इस विमान में 166 यात्री सवार थे। विमान में ये घटना क्रू मेंबर की चूक से हुई, जो केबिन प्रेशर को मेंटेन करने वाले बटन को दबाना भूल गया था। वहीं विमान कंपनी ने बताया कि सभी यात्री सुरक्षित हैं। मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। किसी को समझ नहीं आ रहा था कि आखिर, ऐसा क्‍यों हो रहा है। तब क्रू मेंबर को ध्‍यान आया कि उन्‍होंने केबिन प्रेशर मेंटेन करने वाले स्विच को नहीं दबाया है। इसके चलते विमान के ऊंचाई पर पहुंचने से लोग हवा की कमी महसूस करने लगे। ऐसे में कुछ लोगों के नाक और कान से खून निकलने लगा, वहीं काफी लोगों के सिर दर्द होने लगा।



सूत्रों के अनुसार 14 हजार फीट की उंचाई पर हवा में हडकंप मच गया- जेट एयरवेज के विमान में सवार सैकडों यात्री चीखने चिल्लाने लगे. एयर प्रेशर विमान में इस कदर खतरे के स्तर तक जा पहुंचा कि तीस से ज्यादा यात्रियों के नाक कान से खून की धार बहने लगी

जेट एयरवेज के प्रवक्ता ने घटना पर सफाई देते हुए कहा मुंबई से जयपुर जा रहे हमारे विमान को वीरवार को इसलिए वापस बुलाना पड़ा, क्योंकि केबिन प्रेशर कम हो गया था। 166 यात्रियों और 5 क्रू मेंबर्स समेत विमान को मुंबई में सामान्य ढंग से उतारा लिया गया है। सभी यात्री सुरक्षित हैं। विमान में जिन यात्रियों ने नाक और कान से ब्लीडिंग की शिकायत की थी, उन्हें फर्स्ट एड मुहैया कराया गया है। अब स्थिति सामान्‍य है।' उन्‍होंने बताया कि जिस क्रू मेंबर की गलती से यह हादसा हुआ, उसे तत्‍काल प्रभाव से ड्यूटी से हटा दिया गया है। साथ ही मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। साथ ही यात्रियों के लिए वैकल्पिक फ्लाइट का प्रबंध किया जा रहा है।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने भी इस विमान घटना का संज्ञान लिया। मंत्रालय द्वारा जारी बयान में बताया गया कि डीजीसीए से इस मुद्दे पर तुरंत अपनी रिपोर्ट दर्ज करने का अनुरोध किया है। क्रू मेंबर को तत्‍काल प्रभाव से ड्यूटी से हटा दिया गया है। विमान में 166 लोगों में से 30 प्रभावित हुए और उन्हें इलाज दिया गया।

Post a Comment

0 Comments