Advertisements

रोडवेज कर्मचारियों पर कार्रवाई और निजी रूट परमिटों के विरोधी में धरना प्रदर्शन








Chandigarh, 03 Oct,2018 NewsRoots18

हरियाणा सरकार की तरफ से हरियाणा रोडवेज जॉइंट एक्शन कमेटी की हड़ताल की कॉल से पहले लगाई गई एस्मा का उलंघन करने पर हड़ताल पर गए कर्मचारियों में से करीब  300 के करीब कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया था । अभी तक कर्मचारियों को सरकार की तरह से किसी भी तरह की  राहत नहीं दी गई है । लेकिन फिर कर्मचारी सरकार के खिलाफ एकजुट होने लगे है । कर्मचारीयो ने कर्मचारियों पर की गई कार्रवाई और निजी रूट परमिटों को लेकर  चंडीगढ़ डिपो पर धरना प्रदर्शन किया । कर्मचारियों ने इस दौरान सरकार विरोधी नारेबाजी भी की । कर्मचारियों नेताओ ने सरकार को चेतावनी दी है की सरकार ने अगर अपना निर्णय वापिस नहीं लिया तो 16 और 17 की हड़ताल को अनिश्चित कालीन किया जा सकता है । कर्मचारी नेताओ का दावा किया है की इस बार इस हड़ताल में हरियाणा रोडवेज के सभी कर्मचारी शामिल होकर सरकार को अपना फैसला वापस लेने पर मजबूर करेंगे । 







कर्मचारी नेता बलवान सिंह दोदवा ने कहा की कर्मचारी सरकार से बातचीत के लिए तैयार है। मुख्यमंत्री ने विधान सभा में बातचीत के माधयम से इस मामले को हल करने की बात कही थी मगर अभी तक भी बातचीत का प्रयास सरकार की तरफ से नहीं  किया गया है । बलवान सिंह ने कहा की अब  कमर्चारी सरकार के फैसलों के खिलाफ एकजुट हो गए है । एक दिन  सांकेतिक धरना प्रदर्शन आज किया जा रहा है  इसके बाद परिवहन मंत्री के पानीपत स्तिथ आवास का घेराव किया जायेगा । इसके बाद भी सरकार नहीं मानती तो 16 और 17 ओक्टुबर को हड़ताल की जयेगी  ।  कर्मचारी नेताओ ने चेतावनी दी है की हड़ताल के दौरान बात सरकार अगर 700 रूट परमिट और कर्मचारियों के सस्पेंशन के फैसले पर अटल रहती है तो दो दिन की हड़ताल को अनिश्चित कालीन तक ले जाया जायेगा  ।



वहीँ हरियाणा रोडवेज तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य शमशेर सिंह ने  कहा की इस बार सभी कर्मचारी सरकार के खिलाफ एकजुट होंगे और सरकार को अपना फैसला वापस लेने के लिए मजबूर करेंगे ।  हरियाणा रोडवेज के कर्मचारी और सरकार एक बार फिर आमने सामने आ सकती है । इससे पहले पांच यूनियन की 5 सितंबर की तालमेल कमिटी की हड़ताल को सरकार ने  एस्मा लगाकर दबाने का काम किया था । एस्मा का उलंघन करने वाले कई कर्मचारियों को सस्पेंड भी कर दिया गया था । लेकिन अब सरकार के सख्त रवैये के खिलाफ कर्मचारी नेताओं ने फिर आरपार की लड़ाई का मन बना लिया है । कर्मचारियों की तरफ से अब 700 रूट परमिटों और सस्पेंड किये गए कर्मचारियों को बहाल की करने की मांग को लेकर पहले परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार के आवास का घेराव किया जाएगा और इसके बाद कर्मचारियों की तरफ से 16 और 17 ओक्टुबर की दो दिन की हड़ताल की घोषणा की है ।  

Post a Comment

0 Comments