Advertisements

जल्द खत्म हो सकती है रोड़वेज की हड़ताल




Chandigarh, 30Oct,2018 NewsRoots18
रोडवेज कर्मचारी यूनियनों की 16 अक्टूबर से चल रही हड़ताल को 2 नवंबर तक बढ़ा दिया गया है। हड़ताली कर्मचारियों पर एस्मा के तहत कार्रवाई करने पर प्रदेश के अन्य विभागों के लगभग दो लाख कर्मी भी रोड़वेज की हड़ताल के समर्थन में आ गए हैं। इससे पूरे प्रदेश में परिवहन और अन्य सरकारी सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हो रही हैं। त्योहारी सीजन में अगर हड़ताल और लंबी चली तो जनता को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। सुत्रों का कहना है कि रोड़वेज की हड़ताल को अन्य कर्मचारियों का समर्थन मिलने से सरकार में हड़कम्प मंच गया है। सरकार बुधवार को कर्चमारियों को बातचीत के लिए बुलाकर हड़ताल खत्म करवा सकती है।

रोडवेज कर्मचारी सरकार द्वारा 720 प्राइवेट बसों को परमिट दिए जाने का विरोध कर रहे हैं। कर्मचारियों पर सरकार की ओर से की गई कार्रवाई के विरोध में दूसरे विभागों-बोर्डों के कर्मचारी भी रोडवेज यूनियनों के समर्थन में आ गए हैं। इससे हड़ताल ने विकराल रूप धारण कर लिया है। रोड़वेज की हड़ताल 15 वें दिन में पहुंच गई है। ऐसे में सरकार पर हड़ताल खत्म करवाने का दबाव बढता जा रहा है।


अन्य विभागों के कर्चमारियों ने एस्मा के तहत कार्रवाई करने के विरोध में रोड़वेज की हड़ताल के समर्थन में 30 और 31 अक्तूबर को सावर्जनिक अवकास की घोषणा की थी। आज प्रदेशभर में  बिजली-पानी, फायर ब्रिगेड, स्वास्थ्य और शिक्षा समेत ज्यादातर महकमों के कर्मचारी अवकाश पर रहे। वहीं सरकार ने दावा किया कि  मंगलवार को एक लाख 20 हजार कर्मचारियों ने दफतरों में हाजरी दर्ज करवाई।

सरकार की सख्ती के बाद रोड़वेज यूनियन नेता भूमिगत हो गए हैं। वे लगातार ठिकाना बदल रहे हैं। मोबाइल नंबर बंद कर लिए हैं ताकि लोकेशन ट्रेस न हो पाए। ये सोशल मीडिया पर वीडियो अपलोड कर हड़ताल को बनाए रखने की अपील कर रहे हैं। साथ ही, उनमें जोश भरने का भी काम कर रहे हैं।

सूत्रों का कहना है कि बैठक में हड़ताल को खत्म करने की संभावना तलाशी गई। जल्द ही रोडवेज यूनियनों के पदाधिकारियों को बातचीत के लिए बुलाया जा सकता है।अब देखना होगा की त्योहारों के सीजन के चलते अाम जनता एेसे ही परेशान होती है या उसका कोई हल निकाला जाएगा।

Post a Comment

0 Comments