Advertisements

इनेलो की दो फाड़ पर अभय चौटाला का बयान





Chandigarh, 12 Oct,2018 NewsRoots18
इंडियन नेशनल लोकदल द्वारा युवा इकाई और छात्र विंग इनसो को भंग किए जाने के बाद पार्टी में मतभेद की चर्चा से नेताओं में भी बेचैनी है। लिहाजा पार्टी नेता अभय सिंह चौटाला को शुक्रवार को चंडीगढ़ में मीडिया से रूबरू होकर इस मुद्दे पर सफाई देनी पड़ी। अभय चौटाला ने कहा कि युवा इनेलो और इनसो को रैली में व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी दी गई थी, लेकिन व्यवस्था और अनुशासन बेहतर ना होने के कारण पार्टी नेता ओम प्रकाश चौटाला ने दोनों इकाइयों को भंग कर दिया है। अभय सिंह चौटाला ने सफाई दी कि परिवार में किसी प्रकार का न कोई मतभेद है और न ही मनभेद। 


संगठन की मजबूती के लिए जानी जाने वाली हरियाणा की इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी को अपनी एकता के लिए मीडिया के सामने आकर सफाई देनी पड़ रही है। वजह है पार्टी नेता अभय सिंह चौटाला के भतीजे व हिसार के सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला और पार्टी की छात्र विंग इंडियन नेशनल स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन के अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला के बीच मतभेद। दोनों भतीजों के साथ मतभेद 7 अक्टूबर को गोहाना रैली में खुलकर सामने आ गए थे। दुष्यंत सिंह चौटाला और दिग्विजय सिंह चौटाला के समर्थकों ने न केवल रैली में हूटिंग की बल्कि दुष्यंत सिंह चौटाला के समर्थन में नारेबाजी भी की। इसके चलते पार्टी सुप्रीमो तिहाड़ जेल से पैरोल पर चल रहे ओम प्रकाश चौटाला को खुद मंच से कार्यकर्ताओं को लताड़ लगानी पड़ी। साथ ही उन्होंने चेतावनी भी दी थी कि नारेबाजी करने वालों को चुनाव से पहले पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। रैली के 4 दिन बाद ही उन्होंने इनेलो की युवा इकाई और छात्र विंग इनसो को भंग करने का ऐलान कर दिया। इस पर पार्टी नेता अभय सिंह चौटाला ने सफाई दी... 

उन्होंने कहा कि परिवार में कोई मतभेद और मनभेद नहीं है, बल्कि गोहाना रैली में ठीक से जिम्मेदारी का निर्वहन करने पर दोनों इकाइयों को भंग किया गया है। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि पार्टी में अनुशासनहीनता किसी भी सूरत बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

किसान तबके में और पकड़ बनाने के लिए इंडियन नेशनल लोकदल ने अब मंडियों में जाकर किसानों की दुखती रग पर हाथ रखने की रणनीति तय की है। दरअसल बरसात में इस बार फसलों को खासा नुकसान हुआ है। इनेलो विशेष गिरदावरी करवाकर किसानों के नुकसान की भरपाई की मांग उठा रही है। पार्टी नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि वह खुद आज से मंडियों में जाएंगे और पार्टी के अन्य नेताओं को भी मंडियों में जाकर किसानों की समस्याएं सुनने और नुकसान की भरपाई में सहयोग करने को कहा गया है।




इंडियन नेशनल लोकदल अपने हालिया सियासी नुकसान की भरपाई के लिए कमर कस रही है, लेकिन पार्टी और परिवार में  टकराव  उजागर होना  इंडियन नेशनल लोकदल के लिए उतना सहज नहीं है। अभय सिंह चौटाला बेशक मीडिया में सफाई दे रहे हो, लेकिन इनेलो और चौटाला परिवार का अंदरूनी मामला ठीक नहीं है।

Post a Comment

0 Comments