Advertisements

ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन में तेजी लाया हरियाणा: कविता जैन





Chandigarh,Fab,2019 NewsRoots18
अम्बाला-करनाल, रोहतक, हिसार, पुन्हाना क्लस्टर के टेंडर मार्च 2019 तक होंगे आमंत्रित

 14 क्लस्टरों के माध्यम से हरियाणा में आमजन को सहूलियत देगी सरकार

बंधवाड़ी प्लांट की कार्यप्रणाली को लेकर बैठक बनाने की घोषणा

शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने कहा कि प्रदेश को 14 क्लस्टर में विभाजित कर ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर हरियाणा सरकार तेजी से आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि अप्रैल 2019 तक अधिकांश क्लस्टर में टेंडर प्रक्रिया शुरू कर ली जाएगी। इससे वैश्विक चिन्ता  का सबब बने ठोस कचरा पर समाधान की दिशा में हरियाणा को बड़ी कामयाबी मिलेगी।
वीरवार सुबह बजट सत्र के प्रश्नकाल में वल्लभगढ़ विधायक मूलचंद शर्मा द्वारा सफाई व्यवस्था पर पूछे गए प्रश्न का जवाब दे रही शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन ने कहा कि वैश्विक स्तर पर ठोस कचरा प्रबंधन बड़ी चुनौती बनकर उभरा है, इसके निदान के लिए हरियाणा सरकार द्वारा बनाई गई विशेष कार्ययोजना अब जमीन पर उतर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में ठोस अपशिष्ट के वैज्ञानिक प्रबन्धन और निपटान के लिए और नागरिकों को स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण पर ध्यान देते हुए गुरुग्राम-फरीदाबाद और सोनीपत-पानीपत को  दो क्लस्टरों के लिए कार्य प्रदान किया जा चुका है। पंचकूला क्लस्टर के लिए कंडीशनल लेटर आफ अवार्ड जारी किया गया है और कागज सत्यापन के बाद एजेंसी को कार्य अलाट कर दिया जाएगा। इसी प्रकार रेवाड़ी, भिवानी और फतेहबाद क्लस्टर की तकनीकी निविदा 15 फरवरी को खोली जा चुकी है और इसका मूल्यांकन जारी है। 4 क्लस्टर अम्बाला-करनाल, रोहतक, हिसार, पुन्हाना के लिए 15 मार्च तक निविदा आमंत्रित किए जाने की संभावना है, जबकि अन्य चार क्लस्टरों के लिए निविदा अप्रैल 2019 तक आमंत्रित किए जाने की संभावना है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सभी पालिकाओं में 2147 घरेलू गड्ढे, 425 सामुदायिक गड्ढे, 69 पार्क गड्ढे का निर्माण करवाया गया है।
मंत्री कविता जैन ने कहा कि फरीदाबाद नगर निगम क्षेत्र में कूड़ा डालने के 780 खत्ते थे, जिनमें से 300 खत्ते खत्म कर दिए गए हैं। वल्लभगढ़ में सफाई प्रबन्धन को दुरुस्त करने का काम किया जा रहा है। वल्लभगढ़ जोन के लिए ट्रांसफर स्टेशन बनाने के लिए सेक्टर 25 बूस्टिंग के पास नई साइट का चयन कर लिया गया है। क्षेत्र में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 के तहत होटल, अस्पताल, फैक्ट्री, स्कूल, कालेज, मैरिज पैलेस आदि थोक अपशिष्ट उत्पन्न करने वाले संस्थानों को डी कम्पोस्टिंग मशीन लगाने के लिए नोटिस दिए जा रहे हैं और नियमों का उल्लंघन करने वाले दोषियों को चालान के माध्यम से जुर्माना भी लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बंधवाड़ी प्रोजेक्ट को लेकर ठेकेदार एजेंसी के अधिकारियों की बैठक बुलाने के निर्देश स्थानीय निकाय विभाग को दिए जाएंगे और इसमें संबंधित जनप्रतिनिधियों को भी बुलाया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments