Advertisements

समाज सुधार डॉ भीमराव अंबेडकर की 128वीं जयंती.. पर शत - शत नमन


डॉ भीमराव अंबेडकर की 128वीं जयंती.. पर शत - शत नमन
ShivaniHans,Chandigarh,14April2019 NewsRoora18
भीमराव अंबेडकर एक भारतीय अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक थे। भीमराव अंबेडकर ने दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और अछूतों से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया। इसके अलावा उन्होंने श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन भी किया था। अंबेडकर जी को भारतीय संविधान का जनक कहा जाता है। अंबेडकर जी का जन्म 14 अप्रैल 1891 को हुआ था।
  • 8 अगस्त, 1930 को एक शोषित वर्ग के सम्मेलन के दौरान अंबेडकर ने अपनी राजनीतिक दृष्टि को दुनिया के सामने रखा, जिसके अनुसार शोषित वर्ग की सुरक्षा उसकी सरकार और कांग्रेस दोंनो से स्वतंत्र होने में है।
  • 15 अगस्त 1947 को भारत की स्वतंत्रता के बाद, कांग्रेस के नेतृत्व वाली नई सरकार अस्तित्व में आई और अंबेडकर जी को देश का पहला कानून मंत्री बनाया गया।
  • 29 अगस्त 1947 को अंबेडकर को स्वतंत्र भारत के नए संविधान की रचना के लिए बनी संविधान मसौदा समिति के अध्यक्ष पद पर नियुकत्त किया गया और 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा ने संविधान को अपना लिया।
  • 14 अक्टूबर, 1956 को नागपुर में अंबेडकर ने एक बौद्ध भिक्षु से पारंपरिक तरीके से तीन रत्न ग्रहण और पंचशील को अपनाते हुए बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया। 1948 से जून 1954 तक वे मधुमेह से पीड़ित रहे, इस दौरान वे नैदानिक अवसाद और कमज़ोर दृष्टि से ग्रस्त थे। 6 दिसंबर 1956 में उनकी मृत्यू हो गई।

Post a Comment

0 Comments