Advertisements

चैत्र नवरात्रि2019: नवरात्र के दूसरे दिन, ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी को प्रसन्न


चैत्र नवरात्रि 2019: ऐसें करें मां ब्रह्मचारिणी की उपासना
ShivaniHans,Chandigarh,7thApril, 2019 NewsRoots18
चैत्र नवरात्रि 2019: नवरात्रि के दूसरे दिन मां दूर्गा के ब्रह्मचारिणी स्वरुप की अर्चना की जाती है. मां ब्रह्मचारिणी को ज्ञान, तपस्या, और वैराग्य की प्रतीक है। ब्रह्मचारिणी मां के दाहिने हाथ में जप करने वाली माला और बाएं हाथ में कमंडल होता है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी का मतलब है आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ तप का आचरण करने वाली। ब्रह्म की कठोर तपस्या में लीन रहने के कारण इनको ब्रह्मचारिणी कहा गया है। विद्यार्थियों और तपस्वियों के लिए इनकी पूजा बहुत ही शुभ और फलदायी मानी जाती है। जिनका चन्द्रमा कमजोर हो, उनके लिए भी मां ब्रह्मचारिणी की उपासना अत्यंत अनुकूल होती है.

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करते समय वक्त ये मंत्र पढ़े...
"या देवी सर्वभू‍तेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।"

जानिए मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि...
  • मां ब्रह्मचारिणी की उपासना के समय पीले या सफ़ेद वस्त्र धारण करें।
  • मां को सफ़ेद वस्तुएं अर्पित करें. जैसे- मिसरी, शक्कर या पंचामृत।
  • "ॐ ऐं नमः" मंत्र का जाप करें
  • जलीय आहार और फलाहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए
मां ब्रह्मचारिणी के लिए प्रसाद...
दूसरे दिन मां को शक्कर का भोग लगाएं, भोग लगाने के बाद घर के सभी सदस्यों को दें, उम्र में वृद्धी होगी

धन की स्थिती ठीक करने के लिए...
नवरात्रि में किसी भी दिन एक पानी वाला नारियल लें, उसे अपनी गोद में रखकर "ॐ दुं दुर्गाय नमः" का कम से कम 108 बार जाप करें इसके बाद नारियल को ले जाकर बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें।
मां ब्रह्मचारिणी देवी का पूजन करने से सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है।


Post a Comment

0 Comments