Advertisements

उत्तराखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और नैनीताल के सांसद अजय भट्ट से खास बातचीत के अंश




Chandigarh,24June,2019 NewsRoots18
उत्तराखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और नैनीताल के सांसद अजय भट्ट से साधना ग्रुप के सीएमडी , राकेश गुप्ता की बातचीत। NewsRoots18 और साधना ग्रुप के विशेष अनुबंध के तहत यह साक्षातकार किया गया है।

सवालः अजय भट्ट जी आपके नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने पहले विधानसभा चुनाव जीता और फिर लोकसभा का, लेकिन ना तो आप मुख्यमंत्री बने और ना ही आपको मोदी मंत्रीमंडल में जगह ही मिली...कैसा लगा ?

जवाबः सब पूर्व निर्धारित है, मैं हमेशा इसी पर चला हूं.. क्या हो रहा है इसको नहीं देखा है। संगठन ने जब भी जो दायित्व दिया मैंने ना नहीं कहा। जिस तरह से एक सैनिक पिट्ठू बांधे रहता है उसी तरह मेरा ब्रिफकेस भी तैयार रहता है, पार्टी कहती है चले जाओ मैं चला जाता हूं। पार्टी से कभी कुछ नहीं मांगा...टिकट भी नहीं। मेरी पार्टी ने पहली बार विधानसभा का टिकट दिया विधायक बना फिर 5-6 चुनाव लड़ा। संभवतः ये मेरा सातवां चुनाव था। पार्टी तभी चलती है जब अनुशसन हो। मेरा स्लोगन है, जिंदगी का, कि सब कुछ पूर्ण निर्धारित है.आदमी की सांस भी कंप्यूटराइज्ड है। जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिए। मुझे संगठन का काम करना है, मेरे और मित्रों को दूसरे काम करने हैं, हम एक ही तो हैं क्या दिक्कत है, भगवान ने जिसको जो काम दिया है करना है।
सवालः आपने अपने पहले ही लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को लगभग साढ़े तीन लाख वोटों से हराया । अपनी इस बड़ी जीत का श्रेय आप किसको देंगे आपने काम को या मोदी जी के नाम को ?

जवाब : मुझे ये कहने में जरा भी गुरेज नहीं कि ये सारी कृपा नरेंद्र मोदी की हुई है। हम जैसे लोग जीते वो भी इतने बड़े मार्जिन से, मै तो सोच रहा था 10-5 वोट से भी निकल जाए तो बहुत बड़ी बात है। लेकिन मोदी जी के नाम का इतना बड़ा अंडरकरंट था जिसको कई लोग समझ नहीं पाए। 284 के बाद 303 और सहयोगियों को मिला कर 353 ये बहुत बड़ी बात है। पूरा श्रेय नरेंद्र मोदी जी को है कि उन्होंने संसद दिखा दिया। मैं लोगों से कहता था कि मोदी जी साधारण आदमी नहीं है वो अवतार हैं, फेरी लगाने वाला, चाय बेचने वाला, पान वाला, रिक्शा चलाने वाला, किसान, जवान बस मोदी-मोदी-मोदी। मैं अमेरिका में गया था एक फक्शन में वहां एक बड़े व्यवसासी है पारिख उन्होंने कहा कि विदेशों में आज से पहले हमारी कोई इज्जत नहीं थी लेकिन जब से मोदी जी बने है ये गोरे लोग हमे इतनी इज्जत दे रहे हैं..भारत का सिर पूरी दूनिया के सामने सम्मान के साथ ऊंचा उठा है। जो कांग्रेस के लोग मोदी जी को गाली देते हैं उन्हें भी विदेशों में मोदी जी के नाम पर इज्जत मिल रही है। वो लोग भी अंतर्मन में मोदी जी का धन्यवाद करते हैं।

सवालः उत्तराखंड से मोदी जी का घनिष्ठ रिश्ता है। चुनाव खत्म होने के तुरंत बाद मोदी जी केदारनाथ गए, वहां साधना की औऱ वहां से शक्ति लेकर वापस आए कि मैं दोबारा से इस देश की सेवा में लगूंगा.

जवाबः  बिल्कुल सही 14 बार मोदी जी उत्तराखंड आए और जी खोल उत्तराखंड को दिया भी है। ऑल वेदर रोड पहली बार चली भारत में। साढ़े बारह हजार करोड़ रुपए उत्तराखंड को मिले। चार धाम में कभी किसी ने सोचा नहीं होगा ट्रेन चलेगी, आज काम शुरू हो चुका है। हमको सब कुछ मिल गया नेशनल लॉ कॉलेज मिल गया । लगातार जो चीजें मांग रहे हैं मिलता जा रहा है। मोदी जी ने बद्रीनाथ की गुफा को विश्व प्रसिद्ध बना दिया । विश्वभर से लोग इसे देखने आ रहे हैं।
सवालः  जब आप विपक्ष में थे तो आपने कांग्रेस की सरकार पर प्रकृति विपदा के नाम एनडीआरएफ के फंड में भ्रष्टाचार करने के आरोप लगाये थे। लेकिन अब, जब आपकी सरकार है तो आप उसमें से एक भी आरोप साबित नहीं कर पाए। 

जवाबः ऐसा नहीं है एसआईटी गठित कर दी गई है। जांच अभी चल रही है साबित नहीं होने का सवाल नहीं है, साबित हो भी सकता है। कैलाश खैर जी को एक गीत बनाने का पैसा आपदा राहत कोष से दिया गया था जिसका हमने विरोध किया था। गीत बनाना गलत नहीं है लेकिन पैसा आपदा कोष से देना गलत था, दूसरे कोष से पैसा दिया जा सकता था। हमारी सरकार ने कैलाश खेर का बकाया पैसा दूसरे कोष से दिया। हमने पूर्व की सरकार के किए समझौतों को रद्द नहीं किया। हमने एनएच 74 के घोटाले को उजागर किया था लेकिन कांग्रेस सरकार ने लीपापोती कर दी। हमारी सरकार के आते ही जांच शुरू की और फिलहाल इस मामले में जिलाधिकारी और एसडीएम सहित कम से कम चार दर्जन लोग जेल के भीतर हैं...डेढ़ साल से जमानत नहीं हुई। हमने विपक्ष के रहते हुए एससी/एसटी छात्रवृत्ति घोटाले का मामला उठाया आज एसआईटी गठित है। इस मामले में भी भ्रष्टाचारी जेल जा रहे हैं। कांग्रेस के जमाने में छात्रवृति की लूट हुई। हम लोग उसे बचाने का प्रयास कर रहे हैं। आज हमारी सरकार जीरो टॉलरेंस पर काम कर रही है।

सवाल : उत्तराखंड की जो तीन मुख्य समस्याएं, बेरोजगारी, स्वास्थ्य और पलायन की थी वो आज भी है। सरकार चाहे किसी की भी हो ये समस्याएं जस की तस है। सबसे पहले बात पलायन की करते हैं आंकड़ों के मुताबिक हजारों गांव खाली हो चुके हैं। चार सौं गांव तो ऐसे हैं जहां की आबादी 10 व्यक्ति से भी कम है।

जवाब : कांग्रेस की सरकार ने बहुत गंभीरता से इस पर विचार नहीं किया, जब-जब हमारी सरकारें आईं हमने पर्वतीय क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित कर लोगों को वहां आने का न्यौता दिया। वर्तमान में हमने पलायन आयोग गठित किया है और आयोग की सिफाशि पर तेजी से काम चल रहा है। ये देखकर दिल दुखी होता है जो घर छोड़ कर गया वो वापस नहीं आया। हम होम स्टे पर जोर दे रहे हैं लोगों को सरकार ऑफर कर रही है कि वो लीज पर अपनी जमीन सरकार का दें सरकार किराया देगी,ताकि हम होम स्टे कर सकें। या नही ंतो आप चलाओं हम सुविधा देंगे।

सवालः लेकिन वो वापस आए तो किस भरोसे पर आए वहां उनके लिए कोई रोजगार की व्यवस्था हो, स्वास्थ्य की व्यवस्था हो ।

जवाबः इसी चीज को तो हम ठीक कर रहे हैं..हमारा ध्यान पहला कनेक्टिविटी, दूसरा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप करना और तीसरा मेडिकल फैसिलिटी उपलब्ध कराने पर है। हम तेजी से इस दिशा में काम कर रहे हैं।

सवालः मेडिकल फैसिलिटी के नाम पर अब तक तो कुछ भी खास नहीं । पिछले साल ऐसी कई घटनाएं हुई जब महिलाओं ने सड़कों पर बच्चे को जन्म दिया है ।

जवाबः हां स्वीकार कर रहा हूं। जो कांग्रेस की सरकार बीच में रही उसने सारी चीजें तहस-नहस कर दीं. हमने 108 एम्बुलेंस सेवा शुरू की थी, जो 10 मिनट के भीतर पहाड़ी क्षेत्रों में भी पहुंच जाती थी। कांग्रेस की सरकार ने आते ही उसे बंद कर दिया। लेकिन अब हमारी सरकार आई है दोबारा से करीब-करीब 70 गाड़ियां हमने खरीदी हैं । फिर से उस पर काम चल रहा है। पहली बार हर हॉस्पीटल में कम से कम एक डॉक्टर दिया। जिला चिकित्सालों में हमने पहली बार दो आईसीयू बनाये। स्वास्थ्य को चुस्त-दुरुस्त करना हमारी पहली प्राथमिकता है। उत्तराखंड सबसे कम पैसे में डॉक्टर बना रहा है लेकिन हमने डॉक्टरों से शर्त रही है कि पहले पांच साल उन्हें यहां सेवा देनी होगी। शिक्षा के क्षेत्र में भी हम काम कर रहे हैं पहली बार हमने हर स्कूल को प्राधानचार्य दिए, हर सब्जेक्ट के टीचर दिए। आज यहां कोई भी ऐसा स्कूल नहीं है जहां टीचर नहीं हो। हमने कॉन्ट्रेक्ट पर भी टीचर लिए हैं ताकि बच्चों का भविष्य बर्बाद नहीं हो। 

सवालः प्रधानमंत्री मोदी जी का सपना है कि 2022 तक देश के हर किसानों की आय को दोगुना करेंगे। उत्तराखंड में औषधिय पौधों की बहुत अच्छी लाभदायक खेती होती है। लेकिन औषधियों की ज्यादातर खेती पर बड़ी कंपनियों का अधिकार है । छोटे किसान बेरोजगार हो रहे है या कंपनियों के खेत में मजदूरी करने को विवश। 

जवाबः ऐसा नहीं है..हम लोगों ने किसानों को खाद, बीज, पानी और 6000 रुपए प्रतिवर्ष समय पर दे रहे हैं। किसान को ब्याज रहित ऋण देने वाला हमारा पहला प्रदेश है। हमने आपदा के मानको में भी बदलाव किए हैं। अब यदि किसी छोटे से छोटे गांवों में भी यदि प्राकृतिक आपदा आती है तो उसे सरकार की तरफ से राहत प्रदान किया जाता है। हम नौकरियां भी दे रहे हैं केदारनाथ और बद्रीनाथ में स्थानीय महिलाओं के द्वारा प्रसाद बनाने का काम किया जा रहा है। ये व्यवसाय बढ़ कर डेढ़ करो़ड़ का हो चुका है। प्रसाद में इस्तेमाल होने वाली चौलाईपहले 10 रूपये किलो भी नहीं बिकती थी वो अब 100 रूपये किलो बिक रही है। 

सवालः हरिद्वार में दो साल बाद कुम्भ का आयोजन होने वाला है। अभी प्रयागराज में कुम्भ हुआ था जो लोग भी वहां गए वहां की व्यवस्था की प्रसंशा की। मोदी जी और योगी जी के प्रयासों को सराहा। सफाई, सुरक्षा और अनुशासन इतनी अच्छी थी कि 5 करोड़ लोग आए लेकिन कहीं भी कोई अव्यवस्था नहीं दिखी। दो साल बाद हरिद्वार में भी कुम्भ का आयोजन होना  है क्या तैयारी कर रहे हैं।

जवाबः वैसा ही होगा जैसा प्रयागराज में हुआ था...2010 में हमने कुम्भ किया था वो सराहा गया..पूरे विश्व में चहल-पहल हुई..8 करोड़ लोग आए थे.. चुस्त-दुरुस्त व्यवस्थाएं थीं। प्रयागराज और हरिद्वार दोनों अपने ही हैं। लेकिन हरिद्वार कनजस्टेड है जबकि प्रयागराज फैला हुआ है। कल भी मोदी जी प्रधानमंत्री थे और आज भी हैं। करना सब उनको ही है। हमारी सरकार ने 5 हजार करोड़ रुपए मांगा है। वो मिलना ही मिलना है। सब कुछ बिल्कुल उसी पैटर्न पर होगा, वैसी ही व्यवस्था होगी, वैसा ही ऑर्गनाइजेशन होगा...जगह सीमित है, लेकिन 8 करोड़ लोग 2010 में आ गए तो अब तो व्यवस्थाएं और बेहतर होंगी। जो लोग यहां भाषण देते हैं मैं उनसे कहना चाहता हूं कि आप जरा मोदी जी की कल्पना देखकर आइए..घाटों को देखिए और साथ में केदारनाथ को देखिए..कई लोगों के तो आंसू निकल आते हैं, जिन्होंने 2013 में देखा होगा..क्या दिव्य और भव्य बना दिया है मोदी जी ने...नीचे से जाते ही सीधे ही केदारनाथ दिखते हैं। एक सिस्टमेटिक तरीके से निर्माण कराया है।

Post a Comment

0 Comments