Advertisements

550वे प्रकाश पर्व पर पंजाब और हरियाणा के संयुक्त विधानसभा सत्र की झलकियां



Chandigarh
कुछ लम्हे इतने खास होते हैं कि इतिहास बन जाते हैं... आज यह मौका आया पंजाब विधानसभा के सदन में! हरियाणा और पंजाब के तमाम विधायक-मंत्री एक ही सदन में एक-दूसरे से सट कर बैठे थे। न एसवाईएल पर कोई तकरार था और न ही राजधानी चंडीगढ़ को लेकर कोई तकरीर... पंजाबी भाषी इलाके से लेकर सीमांकन औऱ अलहदा उच्च न्यायालय का भी कोई जिक्र नहीं हुआ। दोनों सूबों के नुमाइंदों में गर्मजोशी थी। अध्यक्षीय सिंहासन पर सात लोगों के लिए कुर्सियां लगी थी। एक तरफ पंजाब के सीएम कैप्टन अमरेंद्र सिंह विराजमान थे और दूसरी तरफ हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर तशरीफ़ रखे हुए थे। दोनों सूबों के राज्यपाल भी सदन की गरिमा बढ़ा रहे थे। बीच में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू विराजित थे औऱ मेजबानी कर रहे थे पंजाब असेम्बली के स्पीकर राणा केपी सिंह। दरअसल यह विशेष सत्र श्री गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित किया गया था। गुरुवाणी की मीठी-मीठी आवाज से सत्र का आगाज हुआ। गुरुनानक देव जी की सिखाई प्रीत आज सब सियासतदानों के आचरण में भी दिखी। ऐसे मौके दुर्लभ होते हैं। 

#######

उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू हर बार उम्दा बोलते हैं। आज वेंकैया नायडू ने अपने उद्बोधन का आगाज पंजाबी में किया और उनकी यह पंजाबी डॉ. मनमोहन सिंह की पंजाबी से जरा भी उन्नीस नहीं थी। बेशक दोनों लिखा हुआ पढ़ रहे थे, लेकिन वेंकैया के भाषण के दौरान सदन ने तीन बार डायस थपथपाई। उनका भाषण सरस था और श्रोताओं में शिद्दत थी। आखिर में भी वेंकैया ने पंजाबी में ही कहा-तुहाड़ा सारयां दा धन्यवाद। 

######

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरेंद्र सिंह आज सदन में अच्छा बोले। श्री गुरुनानक देव जी की शिक्षाओं को इंगित करते हुए उन्होंने बड़ी बात कही-
पवणु गुरु पाणी पिता माता धरति महतु।।
श्री गुरुनानक देव जी ने पर्यावरण संरक्षण के लिए 5 सदी पहले अतुल्य सन्देश दिया था कि हवा गुरु के समान, पानी पिता के समान और धरती माँ के समान है। यह संदेश उन्होंने उस वक्त दिया था जब न तो प्रदूषण उगलने वाली कारखानों की बड़ी चिमनियां थीं और न ही लाखों-करोड़ों मोटर वाहन न ही ओजोन को क्षत-विक्षत करने वाले एयर कंडीशन चलते थे। यह उनकी दूरदृष्टि थी। अलबत्ता कैप्टन ने पवन को गुरु कहने वाला अहम दोहा तो दोहराया लेकिन नासा ने पराली जलाने की जो तस्वीर अंतरिक्ष से लेकर जारी की है, उसमें पंजाब का पूरा नक्शा लाल हुआ पड़ा है। कैप्टन अमरेंद्र पराली जलाने वालों पर शिकंजा कसने के नाम पर सीधा केंद्र से ग्रांट की मांग उठाते हैं ताकि पराली का निपटान किया जा सके। यद्यपि इस वक्त अनुदान की बजाय निदान की जरूरत है। 

#######

पंजाब विधानसभा का नज़ारा देख कर आज ऐसा लगा कि दिल में जगह हो तो फिर हर जगह बस जगह ही जगह बन जाती है। पंजाब के 117 औऱ हरियाणा के 90 विधायकों के बैठने के बाद भी सदन में कुछ और लोग आ सकते थे। गौरतलब है कि पंजाब विधानसभा में 212 विधायक एक साथ बैठ सकते हैं। आज पंजाब ने बैठने को जगह दी तो सब खुशी से बैठ गए, लेकिन जब बंटवारे के मुताबिक 60:40 के अनुपात की बात आती है तो पंजाब अपने से अलहदा हुए छोटे भाई हरियाणा को उसका हक देने से आनाकानी करता है। हरियाणा के पास अनुपातिक दृष्टि से विधानसभा परिसर में कम जगह है। असल में जहां हरियाणा विधानसभा चलती है, वो तो संयुक्त पंजाब की विधान परिषद के लिए बनाया गया सदन है। बहरहाल काम चल रहा है। 

#########

इस बार 40 नए लोगों को हरियाणा विधानसभा में चुनकर आने का मौका मिला है। उनके लिए अपनी विधानसभा में बैठना ही किसी बड़े सपने के साकार होने जैसा है, लेकिन तीसरे ही दिन उन्हें पंजाब के 
भव्य और ऐतिहासिक सदन में बैठने का मौका मिल गया। वो सब विस्मित और उत्सुक थे। नतीजतन सबने अपने-अपने फोन निकाले और सेल्फियां लेनी शुरू कर दी। ज्यादातर विधायक सेल्फी लेने मशगूल थे, इस अंजाम से बेखबर कि पंजाब विधानसभा में यह अनाधिकार चेष्टा करने वालों के मोबाइल फोन या तो छीन कर तोड़ दिए जाते हैं या जब्त कर लिए जाते हैं। हरियाणा विधानसभा में भी ऐसे फोटोग्राफी की इजाजत नहीं है।

Post a Comment

0 Comments